Home / Hindi / समंथा ने कहा मेरी गांड मारो पहले, वहां बहुत खुजली हो रही है

समंथा ने कहा मेरी गांड मारो पहले, वहां बहुत खुजली हो रही है

sex kahani मैं एक अच्छी बॉडी वाला इंसान हूं, और एक लंबे और मोटे लंड का मालिक हूं, तो कोई लड़की मुझसे मिलना और इंजॉय करना चाहे तो मुझे मेल कर सकती है. मैंने अपनी पिछली स्टोरी में शीतल के साथ किए प्यार को बयान किया था एक्चुअली वह सब मैं अपने ऑफिस में बैठे मेरे बीते हुए कल को याद कर रहा था, इतने में मेरे केबिन पर किसी ने नॉक किया, मैंने कमिन कहा, तो वह समंथा थी, उसने मुझे फाइल में साइन करने के लिए कहा था, तो वहीं फाइल लेने वह आई थी. मैं फिर से खड़ा हुआ और पास में रखें टेबल से फाइल लेने आगे बढ़ा, तभी समंथा ने नोटिस किया कि मेरा लंड पैंट में खड़ा हो चुका है, और बाहर आने के लिए तड़प रहा है. पेंट मानो तंबू की तरफ फैल गया है.

मुझे भी इस बात का एहसास हुआ, लेकिन मैंने चुपके से फ़ाइल समन्था को दी, उसने एक नॉटी सी स्माइल दी और वह चली गई, मैं फिर अपनी चेयर पर आकर बैठ गया. तभी मैंने समंथा के बारे में सोचने लगा, वह उड़ीसा से एक हफ्ते ट्रेनिंग के लिए आई थी, दिखने में काफी बोल्ड और सेक्सी है. उसका साइज़ ३०-२८-३२ है, ज्यादातर मैंने उसको स्कर्ट और फॉर्मल शर्ट में ही देखा था, वैसे मेरी नजर उस पर पहले नहीं थी, क्योंकि उस वक्त मैं कुसुम और शालीनी के साथ मजे कर रहा था. तभी मेरी जहन में आया कि समंथा परसो जाने वाली है और उसकी ट्रेनिंग खत्म हो चुकी है, सो क्यों ना अपना नेक्स्ट सेक्स चेप्टर में उसे शामिल कर लू? तभी मैंने समंथा को अपने केबिन में बुलाया, मैंने उसे बैठने को कहा. मैं जरा चौंक गया क्योंकि उसने अपनी शर्ट का ऊपर का बटन ओपन किया हुआ था, और उसका क्लीवेज साफ दिख रहा था, उसने यह बात नोटिस कर ली कि मैंने उसे घुर रहा हूं तभी मैंने कहा तुम्हारी ट्रेनिंग कैसे रही?

समंथा – हां, बहुत अच्छी लगी.

loading...

मैं – तो मुंबई कैसी है, कहीं घूमने गए हैं कि नहीं?

समंथा – नहीं सर, ट्रेनिंग में बिजी थी, पर कल शायद जाऊं घूमने, पर एक प्रॉब्लम है.

मैं – क्या प्रॉब्लम है बताओ, मैं हूं साथ तो हर प्रॉब्लम सॉल्व कर देंगे.

समंथा – थैंक्यू सर, लेकिन मैं अकेली हूं तो इतने बड़े सिटी में कहां जाऊं?

मैं – इतनी सी बात, अरे यार, मैं हूं ना चलो. मैं तुम्हें कल मुंबई की सैर करवाऊंगा. इट्स फाइन फॉर यू?

समंथा – एस वाय नोट इट विल बी अवेसम.

मैं – कल मैं तुम्हें गेस्ट हाउस से पिक करता हूं.. वैसे आज रात को डिनर पर चलोगी मेरे साथ?

समंथा ने थोड़ा शौक होकर कहा – हां चलूंगी, पर सर कहां जाएंगे हम?

मैं – बताता हूं कुछ देर में, तुम रेडी रहना.

फिर मैं तो ऑफिस के काम से बाहर निकल गया और ५ बजे समंथा कों मैसेज किया कि ७ बजे वह रेडी रहे, में गेस्ट हाउस के पार्किंग में आता हूं, मैं टाइम पर पहुंच गया और उसे मैसेज किया उतने में उसका रिप्लाई आया कि वह ५ मिनट में आ रही है, मुझे पता था ज्यादा टाइम लगेगा, जब वह आई तो मैं दंग रह गया. वह बहुत ही सुपर सेक्सी लग रही थी. और मस्त फिगर लग रहा था, उसकी वह लाल शोर्ट ड्रेस में जो स्लीवलेस थी और उसकी क्लीवेज कमाल की लग रही थी. उसने कहा सर चलें? क्या हुआ? मैंने कहा कुछ नहीं बस यार लुकिंग सुपर अवेसम..

समंथा ने नोटी स्माइल दिया और कहा थैंक यू सर.

मैं – डोंट से सर, जस्ट से वसीम, अब हम बाहर जाएंगे और ऑफिस के काम से रिलैक्स होकर इंजॉय करेंगे.

समंथा – ओके सर, ऊप्स सॉरी वसीम.. ऐसा करके हम दोनों हंसने लगे. कुछ देर में हम बारबेक नेशन पहुंच गए, वहां हमने डिनर किया. मेरी नजर सिर्फ उस पर टिकी थी, ये बात उसे भी पता थी और वह भी जानबूझकर मुझसे चिपक के बैठी हुई थी,  मुझे नोटि स्माइल देती थी, कभी मेरे गाल पर हाथ फेरती, मैंने अपने आप को कंट्रोल किया था, बस अब यहां से निकलना था. मैंने पेमेंट किया और बाहर पार्किंग में आकर कहा डिनर कैसा रहा?

समंथा – बहुत मस्त था, बहुत मजा आया. रियली थैंक्यू वसीम.. यार सो नाइस.

मैं – थैंक्स डियर, और वैसे अभी जस्ट १० बजे हैं, अगर तुम चाहो तो हम पवई लेक पर जाएं?

समंथा ने कहा – हां जरूर.. हम कुछ देर में वहां पर पहुंच गए.

दोनों वहां लेक साइड पर वोक कर रहे थे, तभी समंथा का बैलेंस हटा और वह गिरने वाली थी, तब मैंने उसको पकड़ लिया और अपने करीब लिया. हम दोनों एकदम करीब थे, और हमारे होंठ मानो बस सब रेडी थे एक दूसरे को चूमने के लिए.. तभी वहां कोई और आस पास नहीं था लेकिन अचानक कोई आने का अहसास हुआ. तभी मैंने कहा मेरा घर यहीं पास में है. वहीं चलते हैं, वह मान गई और हम घर पहुंच गए. मैंने उसके लिए कॉफी बनाई और हम पी रहे थे. तब अचानक से बम फुटने की आवाज आई (पास में शादी चल रही थी वही पे बम फोड़ा था) तो वह डर सी गई और कॉफी उसके हाथों से गिर गई. मैंने जल्द से उसके पास आया उसके पास आया और हाथ से मग लिया और टेबल पर रख दिया, और झट से उसको अपनी बाहों में ले लिया.

समंथा – सर प्लीज, ऐसा मत कीजिए.

मैं – सर नहीं, वसीम.. और प्लीज मुझे मत रोको. आज आफ्टरनून से जब से तुम्हें देखा है पागल सा हो गया हूं. ऐसा करके मैंने उसे और टाइट से पकड़ लिया. उसके बूब्स मेरे चेस्ट से चिपक चुके थे, तभी मैंने अपने होंठ उसके होठों पर रख दिए अब वह भी मजे से मेरा साथ देने लगी. मेरा हाथ उसकी बेक पर था. उसकी बेक बिल्कुल नंगी थी, जो मेरे हाथ का स्पर्श उसको और गर्म करने लगा. उसने भी मुझे जकड़ लिया था, हम दोनों ने करीब १५ मिनट तक किसिंग की, वाह बहुत ही मजा आया, उसके होठों का रस कमाल का था. अब उसकी आंखों में मुझे सिर्फ़ हवस दिख रही थी. मानो अब उसको सेक्स के अलावा कुछ नहीं चाहिए.

वह फिर से मेरे पास आई और हम फिर से किस करने लगे, इस बार मैंने उसके कान और नेक पर किस करने लगा, और वह मदहोश होने लगी. किस करते करते हम बेडरूम में पहुंच गए. उसने मुझे धक्का दिया और मैं बेड पर गिर गया. अब समंथाने अपने ड्रेस का बटन खोला और ड्रेस अपने जिस्म से निकाल दिया, उसने ब्रा नहीं पहनी थी, उसके बूब्स अब आजाद थे, वाह क्या जबरदस्त बूब्स दिख रहे थे. वह प्यारा सा निप्पल अब काफी सख्त हो चुका था. उसने अपने दोनों हाथों से बूब्स को दबाया और अपनी जीभ से अपने होठों पर फेरने लगी, वह डांस कर रही थी उसने उसी वक्त अपनी पेंटि निकाल दी, अब वह बिल्कुल नंगी हो चुकी थी, उसका नंगा  जिस्म देखकर मैं पागल सा हो गया.

समंथा मेरे पास आई उसने मेरे जींस का बटन खोला और उसको नीचे निकालने लगी और फिर मेरा अंडरवीयर भी निकाल दिया, और फिर मेरा टीशर्ट निकाला, तो मैं भी उसके सामने नंगा था.

समंथा – वोव यु हेव सो  हैंडसम दिक.. आज तो बहुत मजा आएगा.

मैं – हां बेब. यह तुम्हारे लिए है सिर्फ तुम्हारे लिए.

loading...

समंथा – यस बेबी ऐसा कह के उसने मेरे लंड को पकड़ा और चूसने लगी, मैं मदहोश हो गया. वह कभी एकदम जोर से लंड चूसती, तो कभी एकदम आराम से लंड को सहलाती, उसने मेरे बोल्स को पकड़ कर चूमने लगी, मैंने उसके बालों को पकड़ लिया और मजे लेने लगा, उसने अपनी एक उंगली चूत में डाल दी और अब हम दोनो मोन करने लगे उह यवस उह वोव्व ह्ह्ह फह हहह ओह्ह यस्स मम्म ओह्ह हां यस बेबी याआस्स्स्स कुछ देर बाद वो मेरे पास आकर लेट गई और मैं नीचे गया और उसकी चूत चाटने लगा मैं कभी चूत चाटता तो कभी अपनी फिंगर डालता, मैंने फिर अपनी जीभ चूत के अंदर डाल कर उसकी पूरी चूत की सैर करवाई, उसने मेरे बालों को पकड़ लिया और अपने नाखून मेरी पीठ पर नोचने लगी, वह बहुत ही मदहोश हो चुकी थी वह बहुत जोर से मोन कर रही थी यवस उह वोव्व ह्ह्ह फह हहह ओह्ह यस्स मम्म ओह्ह हां यस बेबी याआस्स्स्स कब से तुम से चुदवाना चाहती हूं.. आज जमकर मुझे चोदना मेरे राजा.. मैं बहुत प्यासी हूं प्यार की.. थोड़ी देर में वह जड़ गई, फिर मैं उसके पूरे जिस्म को चूमने लगा, उसके जिस्म का कोई भी हिस्सा ऐसा नहीं था जहां मेरे होंठ नहीं पहुंचे.. अब वह फिर से रेडी हो गई, मैंने कहा चलो अब करते हैं.

समंथा ने कहा मेरी गांड मारो पहले, वहां बहुत खुजली हो रही है. मैंने कहा ओके   वह घोड़ी बन गयी. मैं किचन से जाकर हनी ले आया और उसके बम के होल में लगाया और अपने लंड पर भी लगाया. फिर मैंने अपना लंड उसके गांड के होल पर रखा और पुश किया, वह चिल्ला उठी मैंने उसके बूब्स पकड़ लिए, पीछे से मेरा लंड आधा अंदर जा चुका था, फिर मैं एक और पुश किया. अब मेरा पूरा लंड उसकी गांड में था. उसका दर्द कम हुआ और उसने बेड के हेंडल को पकड़ लिया.. मैं अब चुदाई करने लगा, मेरा लंड अंदर बाहर हो रहा था. मैं उसके बूब्स से खेल रहा था, उसकी गांड पर अपने हाथों से चपत मारी, वह कहने लगी वाव और मारो गांड पर मजा आ रहा है,, मैंने कहा हां मारता हूं जान और दो तिन और चमत मारी, समंथा पूरे मजे  से अपनी गांड में मेरे लंड को सेर करवा रही थी, क्या मस्त लग रहा था, उसकी मदहोश आवाज पूरे रूम में गूंजने लगी यवस उह वोव्व ह्ह्ह फह हहह ओह्ह यस्स मम्म ओह्ह हां यस बेबी याआस्स्स्स, मैं भी अब उसे जोर से चोदने लगा, वह दो बार झड़ चुकी थी. थोड़ी देर के बाद मैंने अपना पानी उसकी गांड में ही डाल दिया. हमने करीब २० मिनट तक चुदाई की फिर हम ऐसे ही नंगे लेट गए.

 फिर कुछ देर बाद मैंने कहा अभी तो यह शुरुआत है, अभी तो तेरी चूत भी बाकी है चोदने को.. तभी समंथा ने कहा हा जान आज की पूरी रात है, जो चाहे कर लो मेरे साथ.. मैं अब उसके ऊपर आया और उस को किस करने लगा, वह भी मेरा साथ देने लगी. फिर हम 69 पोज में आ गए. अब हम दोनों एक दूसरे को प्लेजर दे रहे थे. बहुत मजा आ रहा था. मैंने हनी उसकी चूत पर डाला और चाटने लगा, उसके बूब्स पर हनी की बूंद क्या मस्त लग रही थी, मैं वह चाटने लगा. अब मेरा लंड फिरसे  रेडी था, मैंने हनी उसकी चूत में भी लगाया और में पोजीशन में आ गया, और एक ही ज़टके में पूरा लंड अंदर घुसा दिया.. वह चिल्ला उठी.. उसकी चूत काफी टाइट थी. उसे अब थोड़ा आराम होने लगा, दर्द कम हुआ तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और झटके देने लगा. वह मौन करने लगी. करीब २५ मिनट चोदने के बाद मैंने अपना पानी उसकी चूत में डाल दिया, फिर हम बाथरुम में गए. वहां हम शावर लेने लगे, फिर मैंने वहां भी समंथा को चोदा, बाहर आकर फिर से उसकी गांड मारी. करीब सुबह के ६ बजे तक हम चुदाई कर रहे थे, फिर हम करीब २  बजे तक सोए थे, शाम को मैं उसको घुमाने लेकर गया. जबकि नेक्स्ट के दिन सुबह की फ्लाइट थी तो हम जल्दी घर पर आए, फिर से हमने रोमांस किया, सुबह जब वह नंगी रह के ब्रेकफास्ट कर रही थी, तब मैंने पूछा यू लाइक अनल सेक्स मोर बेब? उसने कहा कि हां जान बहुत मजा आता है और तुमने बहुत मजा दिया. इतना इंजॉय तो मैंने कभी नहीं किया,, थैंक यू सो मच, यह रात मेरी लाइफ की सबसे हसीन थी. मैंने कहा यह सिर्फ तुम्हारी वजह से, फिर हम दोनों रेडी हुए और मैं उसको एयरपोर्ट लेकर गया और वह अपने घर चली गयी.

Sex Story, hindi sex kahani, desi Sex kahani, hindi sex story, hindi sex stories, hindi xxx story, sex kahani, sexy story, indian sex stories, indian sex story, Sex story, hindi sex, desi sex stories, xxx stories, desi sex story, Hindi sex, stories, story, hindi, indian, Sex Story, hindi sex kahani, desi Sex kahani, hindi sex story, hindi sex stories, hindi xxx story, sex kahani, sexy story, indian sex stories, indian sex story, Sex story, hindi sex, desi sex stories, xxx stories, desi sex story, Hindi sex, stories, story, indian, new sex indian story, Antarvasna Sex Stories