Home / Bahen / मेरी शादीशुदा दीदी को पहले दोस्त ने चोदा फिर मैंने चूत मारी

मेरी शादीशुदा दीदी को पहले दोस्त ने चोदा फिर मैंने चूत मारी

 HINDI SEX KAHANI हेल्लो दोस्तों मैं मुकेश आप सभी का इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम में बहुत बहुत स्वागत करता हूँ। मैं पिछले कई सालों से इसका नियमित पाठक रहा हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती तब मैं इसकी रसीली चुदाई कहानियाँ नही पढ़ता हूँ। आज मैं आपको अपनी स्टोरी सूना रहा हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ कि यह कहानी सभी लोगों को जरुर पसंद आएगी। 
दोस्तों मेरा घर बाराबंकी में पड़ता है। वो बहुत सुंदर और सेक्सी माल थी। कई बार तो मेरा यही मन करता था की काश वो मेरी दीदी ना होती तो मैं उनको कसके चोद लेता। वो बहुत हॉट और खूबसूरत माल थी। उनका जिस्म भरा हुआ था। फिगर 36 30 32 का था। वो घर में सलवार कमीज पहनती थी। पर उनके 36” के रसीले मम्मे उनकी कमीज से साफ़ साफ़ दिखते थे। कई बार तो मन करता था की सब कुछ भूल कर उनको एक दिन कसके चोद लूँ। फिर बाद में जो होगा देखा जाएगा। अपनी सगी मीना दीदी को सोचकर मैंने अपने कमरे में हजारो बार मुठ मारी थी। वो इतनी टॉप ही माल थी। रंग की खूब गोरा था। कुछ दिन बाद मेरे घर वालो को उनके लिए एक अच्छा लड़का मिल गया और मीना दीदी की शादी हो गयी। अगले दिन वो विदा हो गयी। यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट काम की है

जब रात हुई तो मैं सोच रहा था की आज मीना दीदी की सुहागरात है। आज तो मेरे जीजा जी दीदी को कसके चोद रहे होंगे। ये बात मन ही मन में सोचकर मैंने फिर से मुठ मार दी। इस तरह से दिन गुजरने लगे। दोस्तों एक साल बाद मेरे जीजा को अपने ऑफिस की सेक्रेटरी से प्यार हो गया और उन्होंने मीना दीदी को छोड़ दिया। अभी तक उनके कोई बच्चा भी नही हुआ था। मीना दीदी बहुत रोई। मैंने उनको चुप कराया। मेरी मम्मी ने कहा की पति ने छोड़ दिया कोई बात नही। तुम यहाँ आराम से रहो। तुम हमारी बेटी हो कोई पराई नही। इस तरह दिन गुजरने लगे। मेरा दोस्त आकाश मेरे घर पर अक्सर आता रहता था। उसका घर मेरे घर के पास ही था। मेरी दीदी को जासूसी फिल्मे देखने का बहुत शौक था। वो अक्सर आकाश के घर पर डीवीडी पर जासूसी फिल्मे देखने जाया करती थी। मीना दीदी और आकाश में काफी पटती थी। वो आकाश के साथ अक्सर बैठकर उसके घर में फिल्म देखा करती थी। मुझे फिल्मे में इतना कोई इंटरेस्ट नही था। मुझे क्रिकेट बहुत पसंद था। मुझे जब भी पढाई से फुर्सत मिलती थी मैं अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलता था। धीरे धीरे मेरे ख़ास दोस्त आकाश और मीना दीदी की दोस्ती बढती जा रही थी।
कभी कभी मुझे शक होता था की कहीं मीना दीदी को पटाकर चोद ना ले। एक दिन मैंने अपनी मम्मी से इस बारे में बात की तो मम्मी बोली की मैं बेकार की बात सोच रहा हूँ। आकाश तो सिर्फ 20 साल का है और मीना दीदी तो 32 साल की है। ये कभी नही हो सकता। मम्मी की बात सुनकर मैंने बेवजह शक करना बंद कर दिया। इस तरह 3 महीने गुजर गये। सर्दियों के दिन आ गये। आज मेरा ख़ास दोस्त कॉलेज नही गया था। पर मैं गया था। शाम 4 बजे मैं कॉलेज से लौट कर आया तो देखा की मेरी मीना दीदी घर पर नही थी। यह स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट काम की है
“मम्मी मीना दीदी कहाँ है???” मैंने पूछा
“बेटा वो तो आकाश के घर गयी है। आज टीवी पर कोई जासूसी फिल्म आने वाली है। वही देखने गयी है” मम्मी बोली
तो मैंने तुरंत आकाश के घर को चल दिया। उसके घर का दरवाजा खुला हुआ था। मैंने आकाश—आकाश… की आवाज लगाई पर घर में कोई नही था। उसके घर वाले कहीं गये थे। मैंने घर में अंदर चला गया। ग्राउंड फ्लोर पर कोई नही था। इसलिए मैंने सीढियों से पहली मंजिल की तरफ जाने लगा। उपर पंहुचा तो आकाश के कमरे से “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” की गर्म गर्म आवाजे आ रही थी। मैं इसे सुनकर तुरंत समझ गया की अंदर कमरे में कोई जवान लौंडिया चुद रही है। मैं ये बात जान गया था। दरवाजा खुला था। खिड़की भी खुली थी। जैसे ही मैं अपने बेस्ट फ्रेंड आकाश के कमरे में जाने लगा तो मैंने खिड़की से सब कुछ देख लिया
मेरी मीना दीदी बिस्तर पर थी। मेरा बेस्ट फ्रेंड आकाश उनके उपर सवार था। मीना दीदी के दोनों पैर खुले हुए थे। आकाश का मोटा 8” का लंड उनकी चूत में धंसा हुआ था। जो जल्दी जल्दी मेरी जवान और सेक्सी मीना दीदी को चोद रहा था। दीदी “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की गर्म गर्म आवाजे और सिस्कारियां निकाल रही थी। मेरी दोस्त ही आज मेरी जवान चुदासी बहन को चोद रहा था। ये सब देखकर मुझे सदमा सा लग गया था। अब मैं समझ गया था की मीना दीदी आकाश के घर जासूसी फिल्मे देखने लगी अपनी चूत चुदाने आती थी। ये बात मैं अब अच्छी तरह से समझ गया था। मैं वही पर खिड़की के किनारे छिप गया और मैंने अपना स्मार्ट फोन निकाल लिया। मीना दीदी की चुदाई की मैं लाइव विडियो बना रहा था। फिर आकाश बड़ी जोर जोर से मेरी दीदी की चूत चोदने लगा। उसे मजा लेते हुए देखकर मेरे मुंह में पानी आ गया।
“ये बहन का लौड़ा कितना नसीब वाला है की ये सिर्फ 20 साल का छोकरा है पर मेरी 32 साल की शादी शुदा दीदी को कसके चोद रहा है” दोस्तों मैं ये बात बार बार सोच रहा था। मेरा स्मार्ट फोन आँन था। मैं अपनी दीदी की चुदाई की विडियो बना रहा था। आज लंड की प्यासी मेरी चुदक्कड दीदी मेरे दोस्त का मोटा लंड खा रही थी। फिर आकाश और ताकत लगाकर मेरी मीना दीदी को चोदने लगा। दीदी “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” की बेहद गर्म आवाजे निकाल रही थी। मेरी दीदी आज जमकर चुदा रही थी। उनकी चूत मैंने दूर से देखी। दोस्ती बहुत भरी हुई चूत थी दीदी की। आकाश का लौड़ा उनकी चूत में पूरा भीतर तक घुसा हुआ था। दीदी ने अपने दोनों पैर खोल रखे थे। फिर आकाश तो जल्दी जल्दी दीदी को चोदने लगा। उसकी रसेदार चूत से चटर चटर की मनमोहक आवाज आ रही थी। लग रहा की कोई बच्चा ताली बजा रहा हो। आकाश ने मीना दीदी को 40” जी भरकर चोद लिया। फिर अपना सफ़ेद रंग का माल उनकी चूत में छोड़ दिया।

जैसे ही उनके अपना लौड़ा बाहर निकाला, दीदी की रसीली चुद्दी से आकाश का माल बाहर की तरह बहने लगा। फिर वो बहनचोद बिस्तर पर लेट गया। मीना दीदी उसका लौड़ा 15 मिनट तक हाथ से जल्दी जल्दी फेटती रही और उसका लंड मुंह में लेकर चूसती रही। मैंने अपनी दीदी के चुदाई वाले काण्ड की पूरी रिकॉर्डिंग अपने फोन में बना ली और चुपके से वहां से घर आ गया। कुछ देर बाद मीना दीदी घर चली गयी। मैंने मन ही मन में सोच लिया था की जब मेरे जिगरी दोस्त आकाश ने मेरी खूबसूरत, जवान, सेक्सी और चुदासी दीदी को चोद लिया तो अब मैं भी अपनी दीदी की रसीली चूत मारूंगा। कुछ दिन तक मैं अनजान बना रहा। एक दिन मेरे पापा और मम्मी किसी शादी में चले गये थे। अब घर सिर्फ मैं और मीना दीदी ही थी।
ये एक अच्छा मौका था दीदी की चुद्दी मारने का।
“दीदी सच सच बताओ की तुम आकाश के घर क्या करने जाती हो???” मैंने सवाल दागा
“मैं तो जासूसी फिल्म देखने जाती हूँ” दीदी बड़े भोलेपन से बोली
मैं हंसने लगा।
“दीदी कहीं तुम्हारा आकाश से अफेयर तो नही चल रहा????” मैंने पूछा
“मुकेश तुम पागल हो ये कैसी बाते कर रहे हो। मैं मम्मी से शिकायत करुँगी” मीना दीदी बड़ी अंजजान और भोली बनकर बोली
मैंने तुरंत अपना मोबाईल फोन अपनी जींस की जेब से निकाल लिया। मैंने उनकी चुदाई की विडियो रिकॉर्डिंग खोल दी।
“इसे देखो। अब ये विडियो मैं सीधा मम्मी पापा को दिखाऊंगा” मैंने कहा
जैसे ही मीना दीदी ने अपनी चुदाई का विडियो देखा उनकी गांड फट गयी। अभी तो बड़ा तनकर बोल रही थी। अब वो भीगी बिल्ली बन गयी थी। विडियो में साफ़ साफ़ उनकी ठुकाई दिख रही थी। वो बिस्तर पर लेटी थी। और मेरे बेस्ट फ्रेंड आकाश का मोटा लौड़ा उनकी चुद्दी में धंसा हुआ था। वो जल्दी जल्दी मीना दीदी को चोद जा रहा था।
“तो दीदी तुम अपनी चूत चुदाने आकाश के घर जाती हो?? आने तो मम्मी पापा को” मैंने कहा
मेरी बात सुनती ही मीना थर थर कापने लगी। वो मेरे हाथ जोड़ने लगी की मैं ये बात दबा लूँ और किसी से न कहूँ। मैंने कहा की जब आकाश ने तुमको मन भरकर चोद लिया है तो मैं भी चोदूंगा। वो तुरंत राजी हो गयी।

loading...

“भाई तुम मुझे जितना दिल करे चोद लो पर प्लीस मम्मी पापा को ये विडियो मत दिखाना” मीना दीदी बोली
उसके बाद मैं उनको अपने कमरे में ले गया। उन्होंने हरे रंग की साड़ी पहन रखी थी क्यूंकि वो शादी शुदा थी। दीदी आज भी बिलकुल झक्कास माल लग रही थी। उनकी आँखें तो बहुत सुंदर थी। मैंने अपनी सगी दीदी को पकड़ लिया और होठो पर किस करने लगा। वो भी मेरा पूरा सहयोग कर रही थी। क्यूंकि अब वो मुझसे डर रही थी। दोस्तों मैंने दीदी की सासों की गजब की महक को जी भरकर सूंघा और उनके रसीले होठ चूसे। दीदी के होठ बहुत सुंदर और रसीले थे। मैं मन भरकर चूस रहा था। उनके होठ को चबा रहा था। दीदी को जीजा जी और आकाश दो लोग अभी तक चोद चुके थे। आज वो मुझसे चुदने जा रही थी। मैंने उनको बाहों में भर लिया और उनके गाल, कान, नाक, गले पर मैं खूब चुम्बन लिया। उनके बाद हम दोनों कपड़े निकालने लगे। अब दीदी और मैं पूरी तरह से नंगे हो गये थे। मैं उनको बिस्तर पर ले गया। वो सीधा होकर लेट गयी। वो पूरी तरह से नंगी थी और बेहद खूबसूरत चोदने लायक माल लग रही थी।
मैं दीदी के उपर लेट गया। वो पूरी तरह से नंगी थी और बहुत सेक्सी और हॉट माल लग रही थी। मैंने उनके 36” के शानदार दूध पर हाथ रख दिया और सहलाने लगा। दीदी “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की आवाज निकाल रही थी। फिर मैंने उनके रसीले दूध को सहलाने लगा और उनका साइज मालूम करने लगा। उनको भी अच्छा लग रहा था। उसकी चूचियां नारियल के गोले की तरह नुकीली और तराशी हुई थी। मीना दीदी जोर का माल थी। मैंने हल्के हाथों से अपनी सगी दीदी के दूध दबाने शुरू कर दिए। वो “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” की सेक्सी आवाज निकालने लगी। धीरे धीरे मेरे हाथ की पकड़ उनकी रसीली चूची पर बढ़ने लगी। अब मैं तेज तेज उनके बूब्स दबा रहा था। दीदी को बेहद सुख की प्राप्ति हो रही थी। बिना वक़्त बर्बाद किये मैंने उनकी चूचियों को पीना शुरू कर दिया। ओह्ह गॉड!! कितनी हसींन चूचियां थी दीदी की। मैंने मजे लेकर पी रहा था। मुंह चला चलाकर चूची को किसी चूहे की तरह दांत से कुतर रहा था। इस तरह मैं भरपूर मजा उस दिन लिया। दीदी की एक एक चूची को मैंने 15 15 मिनट तक चूसा और पीया। उनको भी बेहद मजा मिल रहा था। वो मेरी पीठ को सहला रही थी। उनके नंगे जिस्म को बाहों में भरके मैंने दीदी को सब जगह किस कर रहा था। उनके कंधे तो बहुत गोरे, चिकने, सेक्सी और हॉट थे। मैंने कई दफा उनके कंधों पर दांत गड़ा के काट लिया था। उनकी चूची पर मेरे दांत से काटने के निशान पड़ गये थे। आज मैं दीदी को रगड़कर चोदने जा रहा था।

कुछ देर बाद मैंने अपना लंड दीदी की चूत में डाल दिया और उनको चोदने लगा। वो अपने होठो को दांत से चबा रही थी। साफ था की उनको बहुत आनंद मिल रहा था। मैं जल्दी जल्दी उनको चोद रहा था। दोस्तों मैंने कभी सभी में नही सोचा था की कभी अपनी सगी मीना दीदी की चूत चोदने को मिलेगा। पर आज मेरा ये सपना पूरा हो गया था। मैं सिर्फ और सिर्फ दीदी की रसीली चूत की तरफ ही देखे जा रहा था। उनकी चूत से सफ़ेद रंग का माल निकलने लगा था। इस माल से मेरा लंड अब और जल्दी जल्दी मेरी चूत में फिसल रहा था। मुझे भी अजीब सा नशा छा रहा था। आज पहली बार मैं लाइफ में सेक्स कर रहा था। मुझे भरपूर मजा मिल रहा था। मेरी पीठ और रीढ़ की हड्डी में जलन हो रही थी। मैं धकाधक दीदी को चोद रहा था। लग रहा था की मैं किसी पहिये में हवा भर रहा हूँ। दीदी “……हाईईईईई…. उउउहह….आह आह भाई!!…आजजजज….मुझे और कसके चोदो दोदोदोदोदो..” दीदी चिल्ला रही थी। ये सुनकर मुझे और जादा जोश चढ़ गया और मैं तेज तेज फटके दीदी की चुद्दी में मारने लगा।
“ले ले ले!! रंडी !! आज जी भर कर चुदवा ले !! आज मेरा मोटा लंड खा ले रंडी!!” मैंने कहा और ताबड़तोड़ धक्के मैं दीदी की बुर में देने लगा। वो चुदने लगी। उनको बहुत नशा चढ़ रहा था। मेरे फटकों से दीदी के मम्मे जोर जोर उपर नीचे हिल रहे थे। साफ़ था की दीदी की मुसम्मियाँ किसी मन्दिर की घंटी की तरह इधर उधर हिल रही थी। मुझे उनको देखकर और जादा सेक्स चढ़ रहा था। मैं और ताकत लगाकर अपनी दीदी को चोदने लगा। फिर मैं लेटकर उनके खूबसूरत रसीले होठ पीने लगा और धकाधक चोदने लगा। मेरी दीदी की हाईट सिर्फ 5 फुट थी इसलिए वो आराम से मेरी बाहों में समा गयी थी। आज मैं उनको अपनी गर्लफ्रेंड बनाकर पेल रहा था। आज के लिए वो मेरे लौड़े का माल बन गयी थी। कुछ देर बाद तेज धक्के मारते हुए मैंने दीदी के भोसड़े में ही माल गिरा दिया। फिर मैं उनके उपर ही लेट गया और किस करने लगी। कहानी आपको कैसे लगी, अपनी कमेंट्स इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर जरुर दे।

loading...

Sex Story, hindi sex kahani, desi Sex kahani, hindi sex story, hindi sex stories, hindi xxx story, sex kahani, sexy story, indian sex stories, indian sex story, Sex story, hindi sex, desi sex stories, xxx stories, desi sex story, Hindi sex, stories, story, hindi, indian, Sex Story, hindi sex kahani, desi Sex kahani, hindi sex story, hindi sex stories, hindi xxx story, sex kahani, sexy story, indian sex stories, indian sex story, Sex story, hindi sex, desi sex stories, xxx stories, desi sex story, Hindi sex, stories, story, indian, new sex indian story